Sunday, July 3, 2022

हमें फॉलो करें :

HomeIndian News'कांग्रेस की अब उल्टी गिनती शुरू', राम दरबार पर...

‘कांग्रेस की अब उल्टी गिनती शुरू’, राम दरबार पर बुलडोजर चलता देख बोले यूजर्स, अब कांग्रेस की विदाई तय

- Advertisement -

चूरू शहर के एक एंट्री गेट पर बने रामदरबार को गिराने के मामला ने अब तूल पकड़ लिया है। इसे लेकर सोशल मीडिया पर भी यूजर्स की कड़ी प्रतिक्रिया आ रही है। घटना को लेकर लोगों में इतना रोष है कि लोग सोशल मीडिया पर सरकार को राजस्थान से बाहर निकालने की चेतावनी तक दे रहे हैं।

- Advertisement -

जयपुर: राजस्थान के चूरू जिले के सुजानगढ़ स्थित बरसों पहले बने सालासर बालाजी द्वार को गिराए जाने के मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। एक तरफ जहां बीजेपी सरकार को घेरने के लिए इस मुद्दा पर सीएम गहलोत से सवाल कर रही है। वहीं सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद ट्विटर पर भी यूजर्स कांग्रेस सरकार के खिलाफ अपना रोष जता रही है।

राजस्थान से कांग्रेस से बाहर करने की चेतावनी

जेसीबी मशीन से चूरू शहर के एक एंट्री गेट पर बने रामदरबार को गिराने के मामला सामने आने के बाद यूजर्स कड़ी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। इसमें एक यूजर ने लिखा है कि यूपी में बाबाजी का बुलडोजर अपराधियों पर चलता है और राजस्थान में गहलोत सरकार का रामदरबार पर। यूजर चांदनी परमार ने इंडियन नेशनल कांग्रेस के ट्विटर हैंडल पर ट्वीट को ‘नफरत की डोज बढ़ाओगे, तो खुशियां कहां से लाओगे’ को रीट्वीट कर लिखा है कि राजस्थान से आपको फेंकेंगे इस बार।

- Advertisement -

गेट टूटने के बाद लगा लंबा जाम, हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन

घटना के बाद जानकारी मिली है कि वायरल वीडियो के बाद हिन्दू कार्यकर्ताओं ने सुजानगढ़-सालासर रोड को जाम कर के विरोध प्रदर्शन किया। डेढ़ घंटे तक लगा जाम रात पौने आठ बजे खुल सका। धरने के दौरान हनुमान चालीसा का पाठ भी हुआ। दोनों तरफ से गाड़ियों की लम्बी कतारें लग गईं, जिसकी वजह से कई किलोमीटर लम्बे जाम से निपटना प्रशासन के लिए भी मुश्किल हो गया। पुलिस से आक्रोशित हिन्दू कार्यकर्ताओं ने मांग की कि सीनियर अधिकारियों को मौके पर बुलाया जाए।

- Advertisement -

अधिकारियों ने दी सफाई, यूजर्स को रास नहीं आई

मिली जानकारी के अनुसार हंगामे के बाद डीएईएन बाबूलाल वर्मा और जेईएन नंदलाल मुवाल मौके पर पहुंचे। इसके बाद उनसे राम दरबार की प्रतिमा को तोड़ने का कारण पूछा गया। एईएन ने सड़क के चौड़ीकरण की बात करते हुए हाथ जोड़ कर माफ़ी मांगी। एईएन ने आश्वासन दिया कि सड़क का काम पूरा होने के बाद जो प्रवेश द्वार बनाएगा, उसमें भी राम दरबार की प्रतिमाएं स्थापित की जाएंगी। हालांकि यूजर्स को अधिकारियों का यह तर्क रास नहीं आ रहा है। एक यूजर ने लिखा है कि मेरे तो यह समझ मे ही नहीं आया कि इसमें ऐसा गलत(अवैध) क्या था, जो इसे तोड़ना ही पड़े । सड़क चौड़ी होनी थी तो एक लेंन इसके पास भी तो बनवा सकते थे ।

- Advertisement -

- Advertisement -

41,285,445FansLike
47,275,216FollowersFollow
42,195,696FollowersFollow
23,782,666FollowersFollow
35,155,477SubscribersSubscribe

You May Like